Alone Shayari: When you are feeling alone and nobody is there to make you feel happy then Alone Shayari is the best way to heal your emptiness.

Alone Shayari is for those whose heart has been broken recently. They feel alone due to a loss in trust/bewafai/cheated by boy/girl.

We are providing the Alone Shayari if you are alone sad boy or girl. Sometimes husband and wife also get the fight and they feel alone or miss there past girlfriend or boyfriend then feel to share Alone Shayari with each other.

And if you feel love then share Love Shayari with each other.

Best Alone Shayari

Today social media is used by many people in the world. And due to the increasing number of social media usage breakups and heartbreaking stories come day by day.

So here we are sharing Alone Shayari it. We hope you will enjoy and share it on

Khud kee shinaakht ke saphar mein,
Duaon ka koee makaan nahee hota,
Mahaphile tasavvuph kisee charaaga ke shahar,
Havaon ka koee makaan nahee hota..



खुद की शिनाख्त के सफर में,
दुआओं का कोई मकां नही होता,
महफिले तसव्वुफ किसी चराग़ा के शहर,
हवाओं का कोई मकां नही होता.. 

Jab jee na sake ham jee bharake,
Lipatake khaamoshiyon se til til marate rahe…

जब जी न सके हम जी भरके,
लिपटके खामोशियों से तिल तिल मरते रहे…

 

Kitni Ajeeb Hai Iss Shahar Ki Tanhai Bhi,
Hajaro Log Hain Magar Koi Uss Jaisa Nahi Hai.
कितनी अजीब है इस शहर की तन्हाई भी,
हजारों लोग हैं मगर कोई उस जैसा नहीं है।

JagMagaate Shahar Ki Ranaaiyon Mein Kya Na Tha,
Dhoondne Nikla Tha Jisko Bas Wohi Chehra Na Tha,
Hum Wahi, Tum Bhi Wahi, Mausam Wahi, Manzar Wahi,
Faasle Barh Jaayenge Itne Maine Kabhi Socha Na Tha.
जगमगाते शहर की रानाइयों में क्या न था,
ढूँढ़ने निकला था जिसको बस वही चेहरा न था,
हम वही, तुम भी वही, मौसम वही, मंज़र वही,
फ़ासले बढ़ जायेंगे इतने मैंने कभी सोचा न था।

Koi To Inteha Hogi Mere Pyar Ki Khuda,
Kab Tak Dega Tu Iss Kadar Hame Saza,
Nikaal Le Tu Iss Jism Se Jaan Meri,
Ya Mila De Mujh Ko Meri Dilruba.

कोई तो इन्तहा होगी मेरे प्यार की खुदा,
कब तक देगा तू इस कदर हमें सजा,
निकाल ले तू इस जिस्म से जान मेरी,
या मिला दे मुझ को मेरी दिलरुबा।

Wo Silsile Wo Shauk Wo Gurbat Na Rahi,
Fir Yun Hua Ke Dard Me Shiddat Na Rahi,
Apni Zindagi Me Ho Gaye Masroof Wo Itna,
Ki Hum Ko Yaad Karne Ki Fursat Na Rahi.

 

वो सिलसिले वो शौक वो ग़ुरबत न रही,
फिर यूँ हुआ के दर्द में सिद्दत न रही,
अपनी जिंदगी में हो गये मशरूफ वो इतना,
कि हमको याद करने कि फुरसत न रही।

Ye to teree aahaton kee maasoom sifhaarish hai varana,
Tanhaeyo ki saja mein kisase jamaanat milatee hai

ये तो तेरी आहटों की मासूम सिफारिश है वरना,
तन्हाईयों की सजा में किसे जमानत मिलती है..

Na Sath Hai Kisi Ka Na Sahara Hai Koi
Na Ham Hain Kisi Ke Na Hmara Hai Koi

Phir se tere mehfil mein chala aya hu
Andaz wahi h bs alfaz naye laya hu
er kasz

कुछ अजीब सा रिश्ता है 

   उसके और मेरे दरमियां

ना नफरत की वजह मिल रही है 

   ना मोहब्बत का सिला

Talash kar meri kami ko

 apne Dil mein

 Agar dard hua to samjh lena

 Mohabbat ab bhi baki hai…

Kitna Bhi Duniya Ke Liye Hans Ke Jee Lein Hum,
Rula Deti Hai Fir Bhi Kisi Ki Kami Kabhi Kabhi.

कितना भी दुनिया के लिए हँस के जी लें हम,
रुला देती है फिर भी किसी की कमी कभी-कभी।

Woh Bhi Bahut Akela Hai Shayad Meri Tarah,
Uss Ko Bhi Koi Chahne Wala Nahi Mila.

वो भी बहुत अकेला है शायद मेरी तरह,
उस को भी कोई चाहने वाला नहीं मिला।

hum to jal gaye yaaron ki mohabbat mein moom ki tarah
agar phir bhi koi hamein bewafa kahe to uski wafa ko salaam apna
हम तो जल गए यारों की मोहब्बत में मूम की तरह
अगर फिर भी कोई हमें बेवफा कहे तो उसकी वफ़ा को सलाम अपना

kiya kahen bin tere ye zindagi hai kaisi
dil ko jalti hai ye bebasi kaisi
na keh paate hai na sahe paate hai
na jane takdeer mein likhi ye aashiqi kaisi
किया कहें बिन तेरे ये ज़िन्दगी है कैसी
दिल को जलती ये बेबसी है कैसी
ना कह पाते है ना सह पाते है
ना जाने तकदीर मैं लिखी ये आशिकी है कैसी

Alone Shayari

mat raho dur humse itna ke failse par afsoos ho jaye
kal ko shayad aysi mulakaat ho hamari
ke aap humse lipatkar roye aur hum khamosh ho jaye
मत रहो दूर हमसे इतना के अपने फैसले पर अफ़सोस हो जाये
कल को शायद ऐसी मुलाकात हो हमारी
के आप हमसे लिपटकर रोये और हम खामोश हो जाये

Daava to umrbar keya lekin,
jindagee kabhee samajh nahin aayee….

दावा तो उम्रभर किया लेकिन,
जिंदगी कभी समझ नही आयी…

Bikhar bikharke bhee mukmmal bachee rahati hai,
Maaninde khuda hai teree chaahaten mujhamen…

बिखर बिखरके भी मुकम्मल बची रहती है
मानिन्दे खुदा है तेरी चाहतें मुझमें…

benintia mustakil nm sannaate ugaaye hai,
ham ne tahaaniyon ko kabhee jaaya nahin kiya ….

बेंइंतिहा मुस्तकिल नम सन्नाटे उगाये है,
हमने तन्हाईयों को कभी जाया नही किया…

Woh Har Baar Mujhe Chhod Ke Chale Jate Hain Tanha,
Main Mazboot Bahut Hoon Lekin Patthar Toh Nahi Hoon.

वो हर बार मुझे छोड़ के चले जाते हैं तन्हा,
मैं मज़बूत बहुत हूँ लेकिन कोई पत्थर तो नहीं हूँ।

Kuchh Kar Gujarne Ki Chaah Mein Kahan Kahan Se Gujre,
Akele Hi Najar Aaye Hum Jahan-Jahan Se Gujre.
कुछ कर गुजरने की चाह में कहाँ-कहाँ से गुजरे,
अकेले ही नजर आये हम जहाँ-जहाँ से गुजरे।

Zindagi Ke Zehar Ko Yu Has Ke Pi Rahe Hai,
Tere Pyar Bina Yu Hi Zindagi Jee Rahe Hai,
Akelepan Se To Ab Darr Nahi Lagta Hamein,
Tere Jaane Ke Baad Yu Hi Tanha Jee Rahe Hai.

जिंदगी के ज़हर को यूँ हँस के पी रहे हैं,
तेरे प्यार बिना यूँ ही ज़िन्दगी जी रहे हैं,
अकेलेपन से तो अब डर नहीं लगता हमें,
तेरे जाने के बाद यूँ ही तन्हा जी रहे हैं।

Jab Se Dekha Hai Chand Ko Tanha,
Tum Se Bhi Koi Shikayat Na Rahi.
जब से देखा है चाँद को तन्हा,
तुम से भी कोई शिकायत ना रही।

Shaam Khali Hai Jaam Khali Hai,
Zindagi Yoon Hi Gujarne Wali Hai.
शाम खाली है जाम खाली है,
ज़िन्दगी यूँ गुज़रने वाली है।

Hum Anjuman Mein Sabki Taraf Dekhte Rahe,
Apni Tarah Se Koi Humein Akela Nahi Mila.

हम अंजुमन में सबकी तरफ देखते रहे,
अपनी तरह से कोई हमें अकेला नहीं मिला।

Khwab Boye The Akelapan Kata Hai,
Iss Mohabbat Mein Yaaron Bahut Ghata Hai.

ख्वाब बोये थे और अकेलापन काटा है,
इस मोहब्बत में यारों बहुत घाटा है।

Na Jane Kyun Khud Ko Akela Sa Paya Hai,
Har Ek Rishte Me Khud Ko Ganwaya Hai,
Shayad Koyi Toh Kami Hai Mere Wajood Mein,
Tabhi Har Kisi Ne Humein Yun Hi Thukraya Hai.
ना जाने क्यूँ खुद को अकेला सा पाया है,
हर एक रिश्ते में खुद को गँवाया है।
शायद कोई तो कमी है मेरे वजूद में,
तभी हर किसी ने हमें यूँ ही ठुकराया है।

Chala to khoob magar pahuncha kaheen nahin,
Do raaston ka ikalauta saphar hai aadamee.

चला तो खूब मगर पहुँचा कहीं नही,
दो रास्तों का इकलौता सफर है आदमी !

vakt kee inaayat ka vo bhee haseen taupha aaj bhee jayan mein hai…
Jab churaake hijaab se kuchh lamahe muskuraayee tha teree aankh….

वक्त की इनायत का वो हसीं तोहफा आज भी जेहन में है…
जब चुराके हिजाब से कुछ लम्हे मुस्कुरायी थी तेरी आँखे….

Kabhi Pahlu Mein Aao Toh Batayenge Tumhein,
Haal-E-Dil Apna Tamaam Sunayenge Tumhein,
Kaati Hain Akele Kaise Humne Tanhayi Ki Raatein,
Har Uss Raat Ki Tadap Dikhayenge Tumhein
कभी पहलू में आओ तो बताएँगे तुम्हें,
हाल-ए-दिल अपना तमाम सुनाएँगे तुम्हें,
काटी हैं अकेले कैसे हमने तन्हाई की रातें,
हर उस रात की तड़प दिखाएँगे तुम्हें।

Ajeeb Si Betaabi Rehti Hai Tere Bina,
Reh Bhi Lete Hain Aur Raha Bhi Nahi Jata.

अजीब सी वेताबी रहती है तेरे बिना,
रह भी लेते हैं और रहा भी नहीं जाता।

Muddaton se dhadakane sunee sunee hai,
Haaledil se tera gujarana jarooree hai.

मुद्दतों से धड़कने सूनी सूनी है,
हालेदिल से तेरा गुजरना जरूरी है

Sau Baar Chaman Mehka Sau Baar Bahaar Aayi,
Duniya Ki Wohi Raunak Dil Ki Wohi Tanhai.
सौ बार चमन महका सौ बार बहार आई,
दुनिया की वही रौनक दिल की वही तन्हाई।

Alone Shayari